Daily Current Affairs (Hindi) - 02.07.2018

राष्ट्रीय

सुरेश प्रभु ने लापता, परित्‍यक्‍त बच्‍चों का पता लगाने के लिए मोबाइल ऐप ‘ReUnite’ लॉन्‍च किया

केंद्रीय वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु और नोबेल पुरस्कार से सम्मानित कैलाश सत्यार्थी ने आज यहां गुमशुदा और परित्यक्त बच्चों का पता लगाने के लिये एक मोबाइल ऐप्लिकेशन शुरू किया। ऐप का नाम 'रीयूनाइट' है। इसे सत्यार्थी नीत बचपन बचाओ आंदोलन और आईटी कंपनी कैपजेमिनी ने मिलकर तैयार किया है।

क्या हैं रीयूनाईट (ReUnite) एप

  • यह एप खोए हुए बच्चों को उनके माता-पिता से मिलाने के प्रयास तथा तकनीक से सही उपयोग को दर्शाता है।
  • इस एप के माध्यम से मातापिता बच्चों की तस्वीरें, बच्चों के विवरण जैसे नाम, पता, जन्म चिन्ह आदि अपलोड कर सकते हैं, पुलिस स्टेशन को रिपोर्ट कर सकते हैं तथा खोए बच्चों की पहचान कर सकते हैं।
  • खोए हुए बच्चों की पहचान करने के लिए इमेज रिकोगनिशन, वेब आधारित फेशियल रिकॉगनिशन जैसी सेवाओं का उपयोग किया जा रहा है।
  • यह एप एंड्राएड और आईओएस दोनों ही प्लेटफार्म पर उपलब्ध है।

बचपन बचाओ आंदोलन: बचपन बचाओ आंदोलन भारत में एक आन्दोलन हैं जो बच्चो के हित और अधिकारों के लिए कार्य करता हैं। वर्ष 1980 में "बचपन बचाओ आंदोलन" की शुरुआत कैलाश सत्यार्थी ने की थी जो अब तक 80 हजार से अधिक मासूमों के जीवन को तबाह होने से बचा चुके हैं। "बचपन बचाओ आंदोलन" आज भारत के 15 प्रदेशों के 200 से अधिक जिलों में सक्रिय है। इसमें लगभग 70000 स्वयंसेवक हैं जो लगातार मासूमों के जीवन में खुशियों के रंग भरने के लिए कार्यरत हैं। एक आकलन के मुताबिक साल 2013 में मानव तस्करी के 1199 मुकदमें दर्ज हुए थे जिनमें से 10 प्रतिशत मामले "बचपन बचाओ आंदोलन" के प्रयासों से दर्ज किए गए थे। कैलाश सत्यार्थी ने ना केवल बच्चों को मुक्त कराया बल्कि बाल मज़दूरी को खत्म करने के लिए मज़बूत कानून बनाने की भी ज़ोरदार मांग की। 1998 में 103 देशों से गुज़रने वाली 'बाल श्रम विरोधी विश्व यात्रा' का आयोजन और नेतृत्व भी कैलाश ने किया। 


सरकार 22,000 ग्रामीण बाजारों को e-NAM पोर्टल से जोड़गी

सरकार ने किसानों की आय दो-गुनी करने की अपनी मुहीम के लिए 22,000 ग्रामीण बाजारों को वर्ष 2020 तक इलेक्ट्रॉनिक राष्‍ट्रीय कृषि बाजार (ई-एन.ए.एम) से जोड़ने की घोषणा की है। इन 22,000 ग्रामीण बाजारों या हाटों को ग्रामीण कृषि बाजारों में अपग्रेड किया जाएगा और ई-एन.ए.एम से जोड़ा जाएगा ताकि किसानों की बिक्री सीधे संभावित खरीदारों को मिल सके।

खेल

ऑस्ट्रेलिया ने हॉकी चैंपियंस ट्रॉफी जीती

चैंपियंस ट्रॉफी के खिताबी मुकाबले में 14 बार के चैंपियन ऑस्ट्रेलिया ने भारतीय पुरुष हॉकी टीम को शिकस्त देकर खिताब पर कब्जा कर लिया है. ऑस्ट्रेलिया ने 15वीं बार चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब अपने नाम किया है. ऑस्ट्रेलिया ने भारत को शूटआउट में 3-1 (1-1) से हराकर चैंपियंस ट्रॉफी हॉकी टूर्नामेंट का खिताब अपने नाम कर लिया जबकि भारत दूसरी बार फाइनल में पहुंचने के बावजूद पहला खिताब नहीं जीत सका. निर्धारित समय तक दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर थीं. मैच का पहला गोल ऑस्ट्रेलिया के लिए गोवर्स ने 24वें मिनट में किया था जबकि भारत के विवेक सागर ने 42वें मिनट में गोल करते हुए स्कोर बराबर कर दिया था. इससे पहले साल 2016 में खेली गई चैंपियंस ट्रॉफी में भारत को फाइनल में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने शिकस्त देकर खिताब पर कब्जा किया था.  भारत अब तक चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब नहीं जीत सका है.


ली चोंग वेई ने ऐतिहासिक 12वीं बार मलेशिया ओपन खिताब जीता

मलेशियाई दिग्गज ली चोंग वेई ने जापान के युवा शटलर केंटो मोमोटा को 21-17, 23-21 से हराकर रिकार्ड 12वीं बार मलेशिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब जीता।  स्थानीय खिलाड़ी ने शुरू से ही आक्रामक रणनीति अपनायी और उदीयमान स्टार मोमोटा को सीधे गेम में हराया। महिला एकल के फाइनल में ताइवान की शीर्ष वरीयता प्राप्त ताइ जु यिंग ने चीन की ही बिंगजियाओ को 22-20, 21-11 से हराकर खिताब जीता। ली चोंग वेई ने मलेशिया ओपन बैडमिंटन का खिताब सबसे ज्यादा बार अपने नाम पर किया है। वेई एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने 10 से अधिक बार मलेशिया ओपन का खिताब अपने नाम किया है। उनके अलावा, सिंगापुर के वोंग पेंग सून ने कुल आठ बार इस टूर्नामेंट में खिताबी जीत हासिल की है। 

नियुक्ति

एस रमेश

श्री एस रमेश ने श्रीमती वनाजा एन सरना के सेवानिवृत्त होने पर केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा कर बोर्ड (सीबीआाईसी) के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार ग्रहण किया। अपनी पदोन्नति से पूर्व बोर्ड में वह सदस्य (प्रशासन) थे।