Daily Current Affairs (Hindi) - 02.08.2018

राष्ट्रीय

पुराने जयपुर शहर का नाम यूनेस्‍को विश्‍व धरोहर के लिए प्रस्‍तावित किया गया

राजस्थान की राजधानी जयपुर के पुराने इलाके का नाम यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची के लिए प्रस्तावित किया गया है. उन्होंने लिखित में उत्तर देते हुए कहा कि यूनेस्को के 2017 में जारी हुए दिशा-निर्देशों के अनुसार एक राज्य एक साल में सिर्फ एक नामांकन कर सकता है. महेश शर्मा ने कहा, '(धरोहर स्थल की) मान्यता मिलने से घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन को बढ़ावा मिलता है जिससे रोजगार सृजन, हथकरघा और स्थानीय हस्तशिल्प का प्रसार और विश्वस्तरीय संरचना का निर्माण होता है'.

भारत में इस समय 37 विश्व धरोहर स्थल हैं जिनमें ताजमहल, आगरा का किला, अजंता गुफाएं, एलोरा गुफाएं, फतेहपुर सीकरी और लाल किला परिसर शामिल हैं.यह विश्व धरोहर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के संरक्षण में हैं. यूनेस्को की सूची में हाल ही में मुंबई की 19वीं सदी के विक्टोरियन गोथिक शैली के भवनों और 20वीं सदी के आर्ट डेको भवनों को शामिल किया गया है. यह निर्णय बहरीन के मनामा में यूनेस्को की विश्व धरोहर समिति के 42वें सत्र में लिया गया.

यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल किसे कहते है?
यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में ऐसे खास स्थानों को (जैसे वन क्षेत्र, पर्वत, झील, मरुस्थल, स्मारक, भवन, या शहर इत्यादि) को कहा जाता है, जो विश्व धरोहर समिति द्वारा चयनित किए जाते हैं. इन स्थलों की देखरेख भी विश्व धरोहर समिति के द्वारा ही की जाती है. इस कार्यक्रम का उद्देश्य विश्व के ऐसे स्थलों को चयनित एवं संरक्षित करना होता है जो विश्व संस्कृति की दृष्टि से मानवता के लिए महत्वपूर्ण हैं. कुछ खास परिस्थितियों में ऐसे स्थलों को इस समिति द्वारा आर्थिक सहायता भी दी जाती है.
 

व्यापार व अर्थव्यवस्था

आठ कोर सेक्‍टर उद्योगों की विकास दर 6.7% तक पहुंच गई

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय द्वारा आज जारी आंकड़ों के मुताबिक, कोयले, रिफाइनरी उत्पादों, उर्वरकों, इस्पात और सीमेंट समेत आठ क्षेत्रों में सीमेंट, रिफाइनरी और कोयला सेगमेंट के बेहतर नतीजे के चलते बेहतर प्रदर्शन हुआ।सीमेंट में विस्तार 13.2 फीसदी था, रिफाइनरी उत्पादों में 12 फीसदी और कोयला 11.5 फीसदी सालाना आधार पर था।कच्चे तेल में 3.4 प्रतिशत की नकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई, जबकि पिछले साल की तुलना में प्राकृतिक गैस जून में 2.7 प्रतिशत की नकारात्मक वृद्धि देखी गई थी। हालांकि, स्टील क्षेत्र में जून 2017 में 6 प्रतिशत की तुलना में 4.4 प्रतिशत की धीमी वृद्धि देखी गई। मई 2017 में कोर सेक्टर में 3.6 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई.

कोर सेक्टर क्या है: कोयला, कच्‍चा तेल, उर्वरक, स्‍टील, पेट्रो रिफाइनिंग, बिजली और नेचुरल गैस उद्योगों को किसी अर्थव्‍यवस्‍था की बुनियाद माना जाता है। यही आठ क्षेत्र कोर सेक्‍टर कहे जाते हैं।

पुरस्कार

गोपाल कृष्‍ण गांधी को राजीव गांधी सद्भावना पुरस्‍कार 2018 से सम्‍मानित किया जाएगा

गोपाल कृष्ण गांधी को 24 वें राजीव गांधी राष्ट्रीय गांधी सदभावना पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। इस पुरस्कार में एक प्रशस्ति-पत्र और दस लाख रूपये की नकद राशि ऐसे व्यक्ति या संस्था को प्रदान की जाती है।कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार सलाहकार समिति के सदस्य सचिव मोतीलाल वोरा ने आज यहां बताया कि समिति की 28 जुलाई को आयोजित बैठक में निर्णय लिया गया है कि 24वां राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार गोपालकृष्ण गांधी को कौमी एकता, शान्ति एवं सौहार्द्ध को बढ़ावा देने में उनके अप्रतिम योगदान के लिये दिया जाएगा।राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के जन्म-दिवस पर प्रदान किया जाता है। इस पुरस्कार में एक प्रशस्ति-पत्र और दस लाख रूपये की नकद राशि ऐसे व्यक्ति या संस्था को प्रदान की जाती है जिन्होंने कौमी एकता की स्थापना और हिंसा एवं आतंकवाद के खिलाफ उल्लेखनीय योगदान किया हो।

राजीव गांधी सदभावना पुरस्कार: इस पुरस्कार के तहत एक प्रशस्ति पत्र और 10 लाख रुपये नकद दिए जाते हैं. यह पुरस्कार पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जयंती के मौके पर दिया जाता है. इसे शांति, सांप्रदायिक सदभाव के संवर्धन और हिंसा के खिलाफ लड़ाई में उनके दीर्घकालिक योगदान की याद में शुरू किया गया था.इससे पहले यह पुरस्कार मदर टेरेसा, उस्ताद बिस्मिल्लाह खां, मोहम्मद युनुस, लता मंगेशकर, सुनील दत्त, दिलीप कुमार, कपिला वात्सायन, तीस्ता सीतलवाड़, स्वामी अग्निवेश, केआर नारायणन, उस्ताद अमजद अली खान, मुजफ्फर अली और शुभा मुदगल को मिल चुका है.

गोपालकृष्ण गांधी के बारे में जानकारी

  • गोपालकृष्ण गांधी का जन्म 22 अप्रैल 1945 को हुआ था. वे देवदास गांधी और लक्ष्मीत गांधी के बेटे हैं.
  • सेंट स्टी फेंस कॉलेज से अंग्रेजी साहित्यअ में एमए की डिग्री हासिल करने के बाद गोपालकृष्ण् गांधी ने 1968 से 1992 तक एक आइएस अधिकारी के रूप में अपनी सेवाएं दीं.
  • उन्होंने बतौर आईएएस अधिकारी तमिलनाडु में अपनी सेवाएं दीं थीं.
  • वे 1985 से 1987 तक उपराष्ट्र पति के सेक्रेटरी भी रहे. वर्ष 1987 से 1992 तक राष्ट्रहपति के ज्वाएइंट सेक्रेटरी और 1997 में राष्ट्रेपति के सेक्रेटरी भी रहे.
  • उन्होंने भारत के उच्चांयुक्त के तौर पर लेसोथो में अपनी सेवाएं दीं.
  • इसके बाद वे 2000 में श्रीलंका में भारत के उच्चारयुक्तस और 2002 में नार्वे में भारत के राजदूत नियुक्तद किये गये.
  • गोपालकृष्ण गांधी वर्ष 2004 से 2009 तक पश्चिम बंगाल के राज्यापाल के तौर पर भी कार्यरत रहे.

इस्तीफा

रेणु सत्‍ती

पेटीएम पेमेंट बैंक की सी.ई.ओ (मुख्य कार्यकारी अधिकारी) रेणु सत्‍ती ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया और अब वह पेटीएम की नईं खुदरा पहल का नेतृत्व करेंगी।पेटीएम के 'नए खुदरा' मॉडल के तहत, उपभोक्‍ता तत्काल डिलीवरी पाने के लिए अपने आस-पास के दवाखानों, किराने की दुकान और अन्य दुकानों को खोजने और अपना ऑर्डर देने में सक्षम होंगे।इससे पहले, सत्‍ती ने व्यवसाय के बुनियादी स्‍तर को बढ़ाया है जिसमें बाजार क्षेत्र, फिल्म टिकट और हाल ही में शुरु किया गया पेटीएम पेमेंट बैंक शामिल है।रेणु ने मई, 2017 में पेटीएम बैंक के सी.ई.ओ के रूप में पदभार संभाला था।

निधन

रामपद चौधरी

साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता बंग्‍ला लेखक 'रामपद चौधरी' (95 वर्ष) का कोलकाता के एक सिटी हॉस्‍पिटल में निधन हो गया।चौधरी का उपन्यास 'अभिमन्यु' डॉ. सुभाष मुखोपाध्याय के जीवन और कार्यों पर आधारित था, जिन्होंने 1978 में भारत का पहला और दुनिया का दूसरा टेस्ट-ट्यूब बेबी बनाया था।