Daily Current Affairs (Hindi) - 09.08.2018

National

ट्राई ने अपने मोबाइल ऐप डी.एन.डी 2.0 एवं माई कॉल को उमंग ऐप से जोड़ा

केंद्र सरकार ने डीएनडी 2.0 ऐप को उमंग ऐप के प्‍लेटफॉर्म पर लांच कर दिया है। ट्राई के इस ऐप को पहले प्‍ले स्‍टोर के जरिए अपने फोन में डाउनलोड करके ही सर्विस का लाभ लिया जा सकता था।उमंग प्‍लेटफॉर्म पर आने के बाद ग्राहकों को अलग से यह एेप रखने की जरूरत नहीं होगी।

उमंग एप्प: उमंग (नये युग की शासन प्रणाली के लिये एकीकृत मोबाइल अप्लीकेशन) का विकास इलेक्ट्रानिक एवं सूचना तकनीक मंत्रालय के राष्ट्रीय ई-सरकार विभाग द्वारा किया गया है. उमंग सभी भारतीय नागरिकों को पूरे देश भर में केंद्र सरकार से लेकर स्थानीय निकायों के स्तर तक और अन्य नागरिक केंद्रित ई-सेवाओं के लिये एक एकल मंच उपलब्ध कराता है. यह एक एकीकृत व्यवस्था उपलब्ध कराता है जिसके जरिये नागरिक एक अप्लीकेशन को इंस्टाल कर कई सरकारी सेवाओं का प्रयोग कर सकते हैं. वर्तमान में उमंग को 50 लाख बार और टीआरआई के एप्स को 4 लाख बार डाउनलोड किया गया है. एंड्रायड फोन का प्रयोग करने वाले उपभोक्ता या तो गूगल प्ले स्टोर से सीधे टीआरएआई के एप्स डाउनलोड कर सकते हैं या फिर उमंग अप्लीकेशन के माध्यम से इनका प्रयोग कर सकते हैं.

डीएनडी 2.0 एप्प: डीएनडी (डू-नॉट-डिस्टर्ब) सेवा देने वाला एप्प स्मार्ट फोन के उपभोक्ताओं को अपना मोबाइल नंबर डीएनडी में पंजीकृत करने और अवांछित कॉलों और संदेशों की शिकायत करने की सुविधा देता है ताकि अवांछित काल्स (यूसीसी) और टेलीमार्केटिंग काल्स और संदेशों की शिकायत की जा सके.

TRAI मॉय-कॉल एप्प: ट्राई मॉय-कॉल एप्प मोबाइल कॉल की गुणवत्ता पर निगरानी करने के लिये लोगों के सहयोग पर आधारित एक सहज और उपभोक्ता के लिये आसान प्रणाली है. यह एप्लीकेशन उपभोक्ताओं को मोबाइल कॉल की गुणवत्ता के बारे में उनके अनुभव को उसी समय साझा करने का अवसर उपलब्ध कराता है और उपभोक्ताओं के अनुभव और नेटवर्क के आंकड़े जुटाने में टीआरएआई की मदद करता है.कॉल समाप्त होने के बाद उपभोक्ता से एक पॉप-अप विंडो के जरिये कॉल की गुणवत्ता बताने का अनुरोध किया जाता है. उपभोक्ता अपनी रेटिंग को सितारों की संख्या के रूप में चुनते हैं और इस बात की जानकारी देते हैं कि कॉल को घर के अंदर, बाहर या रास्ते से किया गया था. कॉलर-स्कैन अतिरिक्त जानकारियां जैसे शोर, सुनाई देने में देरी या फिर कॉल ड्रॉप की सूचना भी देता है.
 

Sports

 

सऊदी अरब ने कनाडा के साथ व्‍यापार संबंधों पर रोक लगाई

सऊदी अरब ने अपने आंतरिक मामलों में 'हस्तक्षेप' का आरोप लगाकर कनाडा के राजदूत को बर्खास्त करने और अपने राजदूत को भी वापस बुलाने की आज घोषणा की। साथ ही उसने कनाडा के साथ व्यापारिक संबंधों पर भी रोक लगा दी है।सऊदी अरब ने कनाडाई राजदूत को देश छोड़ने के लिए 24 घंटे का समय दिया है। यह कदम शहजादे मोहम्मद बिन सलमान की आक्रामक विदेश नीति को दर्शाता है। गौरतलब है कि रियाद में कनाडाई दूतावास ने जेल में बंद मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को रिहा करने की मांग की थी जिसके बाद सऊदी अरब ने यह कदम उठाया।

घटनाक्रम: रियाद में कनाडाई दूतावास ने जेल में बंद नागरिक अधिकार कार्यकर्ताओं को रिहा करने की मांग की थी जिसके बाद, विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘सऊदी अरब अपने अंदरुनी मामलों में हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं करेगा.’  इसके बाद सऊदी अरब ने कनाडा के राजदूत को देश से निष्कासित करने और ओटावा के साथ सभी व्यापार समझौतों को रोकने का ऐलान किया.  सऊदी अरब ने कनाडाई राजदूत डेनिस होराक को देश छोड़ने के लिए 24 घंटे का समय दिया है. बदावी को उनकी सहयोगी प्रचार नसीमा अल-सदाह के साथ बीते हफ्ते गिरफ्तार किया गया था.

क्या है विवाद?: कनाडा ने सऊदी अरब की जेल में बंद मानवाधिकार कार्यकर्ता रैफ बदावी एवं उसकी बहन समर बदावी को बंधक बनाकर रखने का विरोध किया है. रैफ बदावी को वर्ष 2012 में इस्लाम का अपमान करने के जुर्म में दस साल की जेल और 1,000 कोड़े मारने की सजा सुनाई गई है. बदावी ने देश में धर्म की भूमिका पर बहस के लिए 'फ्री सऊदी लिबरल' वेबसाइट शुरू की थी. बदावी को जून, 2012 में साइबर क्राइम और अपने पिता की अवहेलना के आरोपों में गिरफ्तार कर लिया गया था. उनकी पत्नी इंसाफ हैदर को कनाडा में शरण दी गई है.

Appointment

निखिल नंदा

निखिल नंदा को कृषि एवं भवन-निर्माण उपकरण निर्माता कंपनी 'एस्कॉर्टस' के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक (एम.डी) पद पर नियुक्‍त किया गया है।उन्‍होंने अपने पिता राजन नंदा की जगह ली जिनका बीमारी के कारण निधन हो गया था।निखिल व्हार्टन बिजनेस स्कूल, फिलाडेल्फिया के पूर्व छात्र और वर्ष 1997 से कंपनी बोर्ड के प्रमुख सदस्य हैं।एस्कॉर्टस ग्रुप एक भारतीय इंजीनियरिंग कंपनी है जो कृषि मशीनरी, भवन-निर्माण और वस्‍तुओं के संचालन उपकरण, और रेलवे उपकरण के क्षेत्रों में काम करती है

Death

राजिंदर कुमार धवन

वरिष्‍ठ कांग्रेसी नेता श्री राजिंदर कुमार धवन (81-वर्षीय) का नई दिल्ली में आयु से संबंधित बीमारियों के कारण निधन हो गया।वह पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी (वर्ष 1962 से 1984 तक निजी सचिव) के करीबी सहयोगी थे।आपातकाल (1975-77) के दौरान, धवन इंदिरा गांधी के नेताओं के आंतरिक मंडल में थे।उन्हें आवास एवं शहरी विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) (1995-1996) नियुक्‍त किया गया था।
During the Emergency years (1975-77), Dhawan was among Indira Gandhi's inner circle of leaders.He was appointed Minister of State (independent charge) Housing and Urban Development (1995-1996).